मेरे अकेले से क्या होगा

0
672

एक बार एक गांव में बड़ी  भयंकर  आग लग गई . सभी गांव के लोग उसको भुजाने में लग गए . सभी पानी ला रहे थे . वहा पर एक चिड़िया भी थी वह अपनी चोंच में पानी भर भर कर ला के उस आग में डाल रही थी वहा पर एक कौवा भी बैठा हुआ था उसने चिड़िया का परिहास उड़ाते हुए कहा अरे मुर्ख चिड़िया तू कितनी भी कोशिश करले तेरे पानी डालने से ये आग नहीं भुजेगी तू पागलो जैसा काम कर रही हैं इसलिए तू व्यर्थ में परिश्रम मत कर यहाँ इसका कोई भी महत्व नहीं हैं

उस काग की बात सुनकर उस प्यारी सी चिडया ने कहा यह मुझे पहले से ही पता हैं लेकिन भविष्य में जब भी इस आग का जिक्र होगा तब मेरी गिनिती आग भुझाने वालो में होगी और धूर्त तेरी गिनती आग का तमाशा देखने वालो में होगी. चिड़िया की बात सुनकर कौवा दुखी हुआ और उसे चिडया की भावना का पता चला  गया की चिड़िया ने कम से कम प्रयास तो किया मैंने तो ये प्रयास भी नहीं किया

इस कहानी से हमें ये शिक्षा मिलती हैं की कई बार हम सोचते हैं की हमारे एक के करने से क्या होगा लेकिन दोस्तोंकिस भी बड़े काम की शुरुआत एक छोटे काम से होती हैं इसलिए हमें हमेसा positive सोच के ही कार्य करना चाहिए

आप को यह कहानी कैसी लगी हमें अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे . अगर आपके पास इस प्रकार की कोई भी hindi motivational stories या hindi inspirational stories हैं तो आप हमें भेज सकते उसे इस साईट पर प्रकाशित किया जायेगा  हमारा ईमेल पता हैं  [email protected]

इसके अतिरिक्त आप इस साईट को और अधिक् कसे रोचक बनाये या कैसे पाठको के लिए उपयोगी बनाये इस बारे में अपने विचारो से हमें अवगत करा सकते हैं हमें आपकी प्रतिक्रियाओ का इन्तेज़ार रहेगा

So think always positive

धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here